eng
competition

Text Practice Mode

बंसोड कम्‍प्‍यूटर टायपिंग इन्‍स्‍टीट्यूट मेन रोड़ गुलाबरा छिन्‍दवाड़ा म0प्र0 मो.नं.8982805777

created Sep 14th, 02:47 by bansod typing


1


Rating

477 words
22 completed
00:00
गिरगिट की तरह रंग बदलते चीन को यह जवाब देकर भारत ने अपनी आक्रामकता को ही रेखांकित किया कि उसे 1959 के उसके प्रस्‍ताव वाली वास्‍तविक नियंत्रण रेखा तो पहले स्‍वीकार थी और अब है। यह आक्रामकता आपसी संवाद के साथ-साथ सैन्‍य मोर्चे के स्‍तर पर भी बनाए रखनी होगी-ठीक वैसे ही जैसे यह कहकर दिखाई की गई थी कि यदि चीनी सैनिकों ने सीमा पर छेड़छा़ड़ करने की कोशिश की तो भारतीय सैनिक गोली चलाने में हिचकेंगे नहीं। चीन के नए बेसुरे राग को खारिज करना और उसे उसी की भाषा में दो टूक जवाब देना इसलिए आवश्‍यक था, क्‍योंकि वह इस तथ्‍य को छिपाकर अपनी बदनीयती ही जाहिर कर रहा है कि वास्‍तविक नियंत्रण रेखा को लेकर उसने तत्‍कालीन प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू को जो प्रस्‍ताव भेजा था, वह खुद उन्‍होंने भी ठुकरा दिया था। यह अच्‍छा हुआ कि भारत ने चीन के छह दशक पुराने इस एकपक्षीय प्रस्‍ताव को मनमाना करार देते हुए सीमा विवाद सुलझाने संबंधी उन समझौतों का भी जिक्र किया, जिनमें 1959 वाले उसके प्रस्‍ताव को कोई अहमियत नहीं दी गई है। चीन ने अपने एकपक्षीय और अमान्‍य करार दिए गए प्रस्‍ताव का उल्‍लेख करके यही संकेत दिया है कि वह आसानी से मानने वाला नहीं है। अब इसका अंदेशा और बढ़ गया है कि वह दोनों देशों के विदेश मंत्रियों के बीच बनी सहमति के आधार पर आगे बढ़ने वाला नहीं है। ऐसे में भारत के लिए यह आवश्‍यक है कि वह कोर कमांडर स्‍तर की पिछली बातचीत में जो सहमति बनी थी कि दोनों देश सीमा पर और अधिक सेनाएं नहीं भेजेंगे, उससे खुद को बंधा हुआ मानकर चले।
 
चीन ने पिछले तीन-चार माह में जिस तरह सैन्‍य स्‍तर पर हुई बातचीत के उलट काम किया है, उससे यही साबित होता है कि उसके इरादे नेक नहीं। उस पर एक क्षण के लिए भी भरोसा नहीं किया जाना चाहिए। वैसे भी धोखेबाजी उसकी पुरानी आदत है। अब तो वह इस मुगालते से भी ग्रस्‍त है कि हर मामले में दुनिया को उसी की बात को सही मानना चाहिए। ऐसा तभी होता है जब कोई देश अपनी ताकत के घमंड में चूर हो जाता है। चीन के अडि़यलपन को देखते हुए उसके समक्ष यह स्‍पष्‍ट करने की जरूरत है कि यदि वह पुराने समझौतों को महत्‍व देने से इन्‍कार करेगा तो फिर भारत के लिए भी ऐसा करना संभव नहीं रह जाएगा। यदि चीन लद्दाख और अरुणाचल पर अपना दावा जताना नहीं छोड़ता तो फिर भारत के लिए भी यही उचित होगा कि वह तिब्‍बत को लेकर उसके साथ हुए समझौते को खारिज करने के लिए आगे बढ़े। भारत को अब चीन के साथ वैसा ही रणनीतिक व्‍यवहार करना होगा जैसा कि चीन करता है। भारत को अब अपनी पुरानी विदेश रक्षा नीति की तर्ज पर शांति का स्‍वर साधने के बजाय नई रणनीति अपनानी होगी। पिछले कुछ वर्षों में भारत ने यही किया भी है।
 

saving score / loading statistics ...