eng
competition

Text Practice Mode

बंसोड टायपिंग इन्‍स्‍टीट्यूट गुलाबरा छिन्‍दवाड़ा म0प्र0 सभी प्रकार की प्रतियोगिता परीक्षाओं की तैयारी करवायी जाती है।

created Jan 25th, 08:50 by sachin bansod


2


Rating

431 words
249 completed
00:00
गणतंत्र दिवस 26 जनवरी को मनाया जाता है। क्‍योंकि इस दिन हमारा संविधान लागू हुआ था। इस दिन अंग्रेजों के कानूनों को हटा कर हमने खुद के संविधान को अपनाया था, संसद से भारतीय संविधान लागू होने के बाद भारत इस लोकतान्त्रिक गणराज्‍य बन गया, यही कारण है कि इस दिन को हम सभी राष्‍ट्रीय त्‍यौहार के रूप में सेलिब्रेट करते हैं। भारत में लाहौर अधिवेशन में इस प्रस्‍ताव की घोषणा की गयी की यदि अंग्रेज सरकार द्वारा 26 जनवरी 1930 तक भारत को डोमीनियम का दर्जा नहीं दिया गया तो भारत को पूर्ण रूप से स्‍वतंत्र घोषित कर दिया जाएगा। इस बात पर जब ब्रिटिश सरकार ने कोई निर्णय नहीं लिया। तब भारतीय कांग्रेस द्वारा 26 जनवरी 1930 को पूर्ण स्‍वराज घोषित कर दिया गया। यह अधिवेशन पंडित जवाहरलाल नेहरू की अध्‍यक्षता में दिसम्‍बर 1929 में हुआ था। भारत की आजादी के बाद 9 दिसम्बर 1947 को संविधान सभा बनाने की शुरुआत की जिसे 2 वर्ष 11 माह 18 दिन में बना कर तैयार किया गया। इसी दिन भारतीय कांग्रेस सरकार द्वारा भारत में पूर्ण स्‍वराज को भी घोषित कर दिया गया था और उस दिन से 26 जनवरी गणंतंत्र दिवस के रूप में मनाया जाता है। भारतीय संविधान निर्माण के लिए 22 समितियों का चुनाव किया गया। जिनका कार्य संविधान का निर्माण करना संविधान बनाना था। सविधान सभा द्वारा संविधान निर्माण के लिए 114 दिन की बैठक की गयी जिसमे 308 सदस्‍यों ने भाग लिया इस बैठक के मुख्‍य सदस्‍य डॉ. राजेंद्र प्रसाद, पंडित जवहरलाल नेहरू, डॉ भीमराव अंबेडकर, सरदार वल्‍लभ भाई पटेल, मौलाना अब्‍दुल कलाम आजाद आदि थे। इनके अलावा संविधान सभा बैठक में जनता अथवा प्रेस को भी शामिल किया गया था। भारतीय संविधान को बनने में कुल 2 वर्ष 11 माह 18 दिन का समय लगा जिसके बाद 26 जनवरी 1950 को संविधान पुरे देश में लागू किया गया। 26 जनवरी की महत्‍व बनाये रखने के लिए भारत के गणतंत्र स्‍वरूप को मान्‍यता देने के लिए 26 जनवरी गणतंत्र दिवस के रूप में मनाया जाता है। इसी दिन 1950 को देश में कानून और भारतीय शासन को लागू कर दिया गया। गणतंत्र दिवस को पुरे भारत में राष्‍ट्रीय पर्व के रूप मनाया जाता है। 26 जनवरी के दिन भारत के राष्‍ट्रपति द्वारा समारोह में ध्‍वजारोहण किया जाता है और तोपों की सलामी के साथ ही गणतंत्र दिवस समारोह में मौजूद सभी नागरिकों द्वारा सामूहिक रूप से खड़े हो कर राष्‍ट्रगान गाया जाता है। गणतंत्र दिवस के दिन अलग-अलग रेजिमेंट, भारतीय तीनों सेनाएं (जल, थल, नभ) गणतंत्र दिवस समारोह में भाग लेते है और राष्‍ट्रीय ध्‍वज तथा राष्ट्रपति को सलामी देते हैं,  

saving score / loading statistics ...