eng
competition

Text Practice Mode

बंसोड कम्‍प्‍यूटर टायपिंग इन्‍स्‍टीट्यूट छिन्‍दवाड़ा (CPCT, TALLY, DCA, & PGDCA) Mob. No. 8982805777

created Jan 24th, 14:14 by shilpa ghorke


0


Rating

290 words
176 completed
00:00
या तो ब्रिटिश क्षेत्रों में विलय कर दिया गया या पटियाला, नाभा और जींद के शासकों को सौंप दिया गया, जिससे हरियाणा पंजाब प्रांत का हिस्‍सा बन गया। 1 नवंबर 1956 को पंजाब के पुनर्गठन के साथ। हरियाणा का जन्‍म एक पूर्ण राज्‍य के रूप में हुआ था। रणनीतिक रूप से स्थित, हरियाणा पूर्व में उत्‍तर प्रदेश, पश्चिम में पंजाब, उत्‍तर में हिमाचल प्रदेश और दक्षिण में राजस्‍थान से घिरा हुआ है। राष्‍ट्रीय राजधानी दिल्‍ली हरियाणा में मिलती है। कुल भौगोलिक क्षेत्र का केवल 1.37 प्रतिशत और भारत की आबादी के दो प्रतिशत से भी कम के साथ, हरियाणा ने अपने लिए एक विशिष्‍ट स्‍थान बनाया है। कृषि हो या उद्योग, नहर सिंचाई हो या ग्रामीण विद्युतीकरण, हरियाणा आधुनिकता की ओर अग्रसर है। राज्‍य को अपने सभी गांवों में बिजली, पक्‍की सड़कें और पीने योग्‍य पेयजल उपलब्‍ध कराने वाले पहले राज्‍यों में से एक होने का अनूठा गौरव प्राप्‍त है। भारत में सबसे समृद्ध राज्‍यों में शुमार, हरियाणा की प्रति व्‍यक्ति आय देश में गोवा के बाद दूसरे स्‍थान पर है। हरियाणा में 65 प्रतिशत से अधिक आबादी का मुख्‍य आधार कृषि है, जो देश के भोजन के कटोरे में दूसरा सबसे बड़ा योगदान है। खाद्यान्‍न उत्‍पादन की मात्रा, जो राज्‍य की स्‍थापना के समय लगभग 25.92 लाख टन थी, फसल गहनता और प्रमुख फसलों के उत्‍पादन में वृद्धि के कारण 2009-10 में 155.5 लाख टन तक पहुंचने की संभावना है। चावल, गेहूं, ज्‍वार, बाजरा, मक्‍का, जौ और दलहन, गन्‍ना, कपास, तिलहन और आलू राज्‍य की प्रमुख फसलें हैं। फसलों के विविधीकरण के तहत गन्‍ना, कपास और तिलहन, सब्जी और फलों जैसी नकदी फसलों के तहत अधिक से अधिक क्षेत्र लाया जा रहा है। संसाधन संरक्षण प्रौद्योगिकियों के प्रसार के माध्‍यम से सतत कृषि को बढ़ावा दिया जा रहा है।

saving score / loading statistics ...