eng
competition

Text Practice Mode

बंसोड टायपिंग इन्‍स्‍टीट्यूट गुलाबरा छिन्‍दवाड़ा म0प्र0

created Sep 13th, 07:08 by shilpa ghorke


1


Rating

198 words
22 completed
00:00
छात्र जीवन में डांटना एक आम बात है। एक लड़का होने के नाते, मुझे हमेशा मेरे माता-पिता द्वारा डांटा जाता है। लेकिन एक दिन मेरे अंग्रेजी शिक्षक ने मुझे बुरी तरह डांटा। वह संक्रमित अच्‍छी तरह पढ़ाती है। लेकिन उस दिन, मैं उस प्रलोभन का विरोध नहीं कर सका जो नैन्‍सी ड्रू के एक साहसिक प्रस्‍ताव ने पेश किया था। जब वह पढ़ा रही थी, मैं उस किताब को पढ़ने में पूरी तरह तल्‍लीन था। नैन्‍सी ड्रू कुछ तस्‍करों द्वारा बिछाए गए जाल में फंस गई और तभी मुझे अपने मुड़े हुए सिर पर हल्‍का सा नल लगा। टीचर ने मुझे रंगेहाथ पकड़ लिया था। उसने मुझे वहां-वहां डांटा और पूरी क्‍लास के सामने मेरा अपमान किया। मैं शर्मिंदा था। दोषी के होश में आकर मेरे गाल जल गए। जब क्‍लास खत्‍म हुई तो मैं टीचर के पास माफी मांगने गया। जब उसने देखा कि मुझे अपनी गलती का एहसास हो गया है, तो वह शांत हो गई और फिर मुझे बड़े दयालु तरीके से बताया कि जब किसी छात्र ने ध्‍यान नहीं दिया तो वह कितना निराशाजनक था। मुझे वास्‍तव में खेद हुआ और मैंने खुद से वादा किया कि मैं फिर कभी ऐसी गलती नहीं करूंगा।

saving score / loading statistics ...