eng
competition

Text Practice Mode

बंसोड टायपिंग इन्‍स्‍टीट्यूट मेन रोड गुलाबरा छिन्‍दवाड़ा मो.नं.8982805777

created Feb 26th, 11:57 by shilpa ghorke


2


Rating

265 words
16 completed
00:00
बहुत समय पुरानी बात है, एक बहुत घना जंगल हुआ करता था। एक बार किन्‍ही कारणों से पूरे जंगल में भीषण आग लग गयी। सभी जानवर देख के डर रहे थे की अब क्‍या होगा? थोड़ी ही देर में जंगल में भगदड़ मच गयी सभी जानवर इधर से उधर भाग रहे थे पूरा जंगल अपनी अपनी जान बचाने में लगा हुआ था। उस जंगल में एक नन्‍ही चिडि़या रहा करती थी उसने देखा कि सभी लोग भयभीत हैं जंगल में आग लगी है मुझे लोगों की मदद करनी चाहिए। यही सोचकर वह जल्‍दी ही पास की नदी में गयी और चोच में पानी भरकर लाई और आग में डालने लगी। वह बार बार नदी में जाती और चोच में पानी डालती। पास से ही एक उल्‍लू गुजर रहा था उसने चिडि़या की इस हरकत को देखा और मन ही मन सोचने लगा बोला कि ये चिडि़या कितनी मूर्ख है इतनी भीषण आग को ये चोंच में पानी भरकर कैसे बुझा सकती है। यही सोचकर वह चिडि़या के पास गया और बोला कि तुम मूर्ख हो इस तरह से आग नहीं बुझाई जा सकती है। चिडि़या ने बहुत विनम्रता के साथ उत्‍तर दिया-मुझे पता है कि मेरे इस प्रयास से कुछ नहीं होगा लेकिन मुझे अपनी तरफ से अच्‍छा करना है, आग कितनी भी भयंकर हो लेकिन मैं अपना प्रयास नहीं छोडूंगी उल्‍लू यह सुनकर बहुत प्रभावित हुआ। तो मित्रों यही बात हमारे जीवन पर भी लागू होती है। जब कोई परेशानी आती है तो इंसान घबराकर हार मान लेता है लेकिन हमें बिना डरे प्रयास करते रहना चाहिए यही इस कहानी की शिक्षा है।  

saving score / loading statistics ...