eng
competition

Text Practice Mode

बंसोड कम्‍प्‍यूटर टायपिंग इन्‍स्‍टीट्यूट प्रायवेट बस स्‍टेण्‍ड छिन्‍दवाड़ा

created Nov 27th 2021, 03:22 by bansod typing


0


Rating

157 words
24 completed
00:00
गांधीजी, मोहनदास की उम्र उस समय तेरह वर्ष थी। वे राजकोट के अल्‍फ्रेड हाई स्‍कूल में पहले साल के छात्र थे। एक दिन शिक्षा विभाग के इंस्‍पेक्‍टर स्‍कूल में निरीक्षण के लिए आये। उन्‍होंने छात्रों को अंग्रेजी में पांच शब्‍द लिखने को दिए। उनमें से एक शब्‍द था केटल। जिसकी स्‍पेलिंग मोहनदास ने गलत लिखी थी। अध्‍यापक ने देखा तो उन्‍होंने बूट की ठोकर लगाकर मोहनदास को सावधान किया कि वह आगे वाले लड़के की कॉपी से देखकर सही कर ले। लेकिन यह मोहनदास को मंजूर नहीं था। बाकी लड़कों के सभी शब्‍द सही हो गए। केवल मोहनदास का ही एक गलत हो गया। अध्‍यापक ने मोहनदास से कहा, तू बड़ा मूर्ख है, मोहनदास। मैंने तुझे इशारा किया था कि आगे वाले लड़के की कॉपी से देखकर सही कर ले। लेकिन तूने ध्‍यान नहीं दिया। मोहनदास पर अध्‍यापक की इस डॉंट का कोई प्रभाव नहीं पड़ा। सच्‍चा आदमी बेवकूफ बनना पसन्‍द करता है। लेकिन चोरी बेईमानी नहीं।

saving score / loading statistics ...